लाइव ब्रेकिंग न्यूज़: 

RPF NEWS :आरपीएफ सिपाही और ट्रेन गार्ड ने बचायी यात्री की जान   |  RPF NEWS :आरपीएफ सिपाही और ट्रेन गार्ड ने बचायी यात्री की जान   |  Kachhona Hardoi News : दो पक्षो में जमकर चली लाठियां, दो लोग गंभीर रूप से घायल   |  Kachhona Hardoi News : दो पक्षो में जमकर चली लाठियां, दो लोग गंभीर रूप से घायल   |  Maudhaganj Kachhouna News माधौगंज कार्यकर्ताओं के द्वारा फूल मालाओं से प्रदेश अध्यक्ष जी का भव्य स्वागत किया गया   |  Maudhaganj Kachhouna News माधौगंज कार्यकर्ताओं के द्वारा फूल मालाओं से प्रदेश अध्यक्ष जी का भव्य स्वागत किया गया   |  Hardoi News : क्रिकेट टूर्नामेंट का हुआ समापन, अंतिम मुकाबले में मुसलमानाबाद टीम ने अपने विपक्षी टीम करलवां को 10 विकेट से हरा खिताब अपने नाम किया   |  Hardoi News : क्रिकेट टूर्नामेंट का हुआ समापन, अंतिम मुकाबले में मुसलमानाबाद टीम ने अपने विपक्षी टीम करलवां को 10 विकेट से हरा खिताब अपने नाम किया   |  Film Prithviraj का नाम बदले बिना फिल्म स्क्रीनपर दिखाना नामुमकिन: दिलीप राजपूत   |  Film Prithviraj का नाम बदले बिना फिल्म स्क्रीनपर दिखाना नामुमकिन: दिलीप राजपूत
Monday, June 14, 2021

राज्य चुने

HomeBusinessवित्त वर्ष 2021 की प्रथम छमाही में महिंद्रा फाइनेंस का कर के...

वित्त वर्ष 2021 की प्रथम छमाही में महिंद्रा फाइनेंस का कर के बाद लाभ (पीएटी) 43 प्रतिशत बढ़कर 459 करोड़ रुपए पर पहुंचा

Category:

लेटेस्ट न्यूज़:

विज्ञापन

वित्त वर्ष 2021 की प्रथम छमाही में महिंद्रा फाइनेंस का कर के बाद लाभ (पीएटी) 43 प्रतिशत बढ़कर 459 करोड़ रुपए पर पहुंचा

संवाददाता (दिल्ली) ग्रामीण और अर्ध-शहरी बाजारों में वित्तीय सेवाओं की अग्रणी प्रदाता कंपनी महिंद्रा एंड महिंद्रा फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड (महिंद्रा फाइनेंस) के निदेशक मंडल ने आज 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही और छमाही के वित्तीय परिणामों की घोषणा की।

वित्तीय वर्ष-2021 दूसरी तिमाही के स्टैंडअलोन परिणाम

30 सितंबर 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान कुल आय 4 फीसदी बढ़कर 2,650 करोड़ रुपए हो गई, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह 2,541 करोड़ रुपए थी। तिमाही के दौरान प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 412 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान तुलनात्मक रूप से यह 458 करोड़ रुपए था, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 10 फीसदी की गिरावट। 30 सितंबर 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी) 304 करोड़ रुपए पर, पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान तुलनात्मक रूप से यह 252 करोड़ रुपए था, 21 फीसदी की बढ़ोतरी। चालू वर्ष के दूसरी तिमाही के दौरान पीबीटी में गिरावट प्राथमिक रूप से कोविड -19 महामारी से संबंधित व्यवधानों के कारण आर्थिक दृष्टिकोण में गिरावट की वजह से हुई। कोविड-19 महामारी के कारण उत्पन्न होने वाली आकस्मिकताओं को कवर करने के लिए, कंपनी ने हानि नुकसान भत्ते में वृहद-आर्थिक दृष्टिकोण में गिरावट को दर्शाने के लिए स्टैंडअलोन वित्तीय विवरणों में प्रबंधन ओवरले को शामिल किया था और तदनुसार 433 करोड़ रुपए का प्रावधान किया।

- Advertisement -

वित्तीय वर्ष-2021 प्रथम छमाही के स्टैंडअलोन परिणाम

30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान कुल आय 7 प्रतिशत की वृद्धि के साथ 5,304 करोड़ रुपए पर रही, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह 4953 करोड़ रुपए थी। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान लाभ से पहले कर (पीबीटी) 620 करोड़ रुपये था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 563 करोड़ था, पिछले वर्ष की इसी अवधि में 10 फीसदी की वृद्धि हुई। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान लाभ के बाद कर (पीएटी) 459 करोड़ रुपए था, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 320 करोड़ था, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 43 प्रतिशत की वृद्धि हुई। पहली छमाही के दौरान कोविड -19 महामारी संबंधी व्यवधानों से उत्पन्न होने वाले मैक्रोइकोनॉमिक दृष्टिकोण में गिरावट को प्रतिबिंबित करने के लिए प्रबंधन ने ओवरले के माध्यम से, 910 करोड़ रुपये प्रदान किए।

वित्तीय वर्ष-2021 दूसरी तिमाही के लिए समेकित परिणाम

- Advertisement -

30 सितंबर 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान कुल आय 5 फीसदी बढ़कर 3,071 करोड़ रुपए हो गई, जबकि पिछले साल इसी अवधि में यह 2,936 करोड़ रुपए थी। तिमाही की अवधि के लिए प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 488 करोड़ रुपए रहा, पिछले वर्ष यह रकम थी 507 करोड़ रुपए, 4 प्रतिशत की गिरावट। 30 सितंबर 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) 353 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले साल यह 264 करोड़ रुपए था, 34 फीसदी की बढ़ोतरी। पीबीटी में गिरावट महामारी के व्यवधानों की वजह से इम्पेयरमेंट प्रोविजन्स/282 करोड़ के नुकसान के कारण दर्ज की गई। तिमाही के दौरान कोविड -19 महामारी संबंधी व्यवधानों से उत्पन्न होने वाले मैक्रोइकोनॉमिक दृष्टिकोण में गिरावट को प्रतिबिंबित करते हुए यह गिरावट दर्ज की गई।

वित्तीय वर्ष-2021 प्रथम छमाही के समेकित परिणाम

30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान कुल आय 6 प्रतिशत बढ़कर 6,139 करोड़ रुपये हो गई, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 5,775 करोड़ रुपए थी। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान लाभ से पहले कर (पीबीटी) 991 करोड़ रुपए था, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 667 करोड़ था, पिछले वर्ष की इसी अवधि में 49 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान कर के बाद लाभ (पीएटी) 785 करोड़ रुपये रहा, जबकि पिछले साल इसी अवधि के दौरान 372 करोड़ रुपए था, पिछले वर्ष की समान अवधि में 111 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी। जबकि पहली छमाही के दौरान कोविड -19 महामारी संबंधी व्यवधानों से उत्पन्न होने वाले मैक्रोइकोनॉमिक दृष्टिकोण में गिरावट को प्रतिबिंबित करने के लिए प्रबंधन ने ओवरले के माध्यम से 946 करोड़ रुपए प्रदान किए।

एच1 एफ2021 के लिए पीबीटी में 229 करोड़ रुपए का केपिटल गेन शामिल है, जो इसकी सहायक कंपनियों महिंद्रा मैनुलाइफ इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड (पूर्व नाम- महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट कंपनी प्राइवेट लिमिटेड) और महिंद्रा मैनुलाइफ ट्रस्टी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड (पूर्व नाम- महिंद्रा ट्रस्टी कंपनी प्राइवेट लिमिटेड) में 49 प्रतिशत हिस्सेदारी की बिक्री के बाद 51 प्रतिशत के ब्याज के उचित वैल्यूएशन के आधार पर लाभ और हानि के बयान में मान्यता प्राप्त है। यह स्थिति मैनुलाइफ ऐसट मैनेजमेंट (सिंगापुर) पीटीई लिमिटेड (मनुलाइफ) के साथ संयुक्त उद्यम समझौते के अनुरूप है।

संचालन

30 सितंबर, 2020 को समाप्त अवधि के दौरान, कंपनी का ग्राहक आधार 6.9 मिलियन को पार कर गया है।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के लिए वित्तपोषित संपत्ति का कुल मूल्य 8,888 करोड़ रुपये था।

ग्रामीण बाजार कोविड- 19 महामारी से काफी हद तक अछूता रहा है और अब इसके प्रभाव से उबर भी रहा है। प्रमुख महानगरों को छोड़कर कंपनी की लगभग सभी शाखाएँ खुल गई हैं और कार्य संचालन जारी है। कोविड- 19 महामारी और उसके बाद लॉकडाउन के कारण कुछ महीनों के व्यवधान के बाद, हम देखते हैं कि बाजारों में अब डिमांड नजर आने लगी है और माहौल भी सकारात्मक हो रहा है। डीलरशिप पर कारोबार सामान्य होने लगा है और ग्राहक भी वापस आ रहे हैं और हमारी डीलरशिप और शाखाओं में ग्राहकों के आगमन में काफी सुधार हुआ है। अच्छे मॉनसून और बेहतर फसल के कारण कृषि की माँग मजबूत बनी हुई है। हम आगामी त्योहारी सीजन में और उछाल की उम्मीद करते हैं। सरकार ने बुनियादी ढांचे और खनन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित किया है और इससे मांग में और तेजी आनेे की संभावना है।

ट्रैक्टर्स, पैसेंजर कारों और लाइट कमर्शियल व्हीकल्स (एलसीवी) में मजबूत मांग देखी जा रही है। पूर्व स्वामित्व वाले वाहन विकास की रफ्तार में प्रमुख वाहक बने रहेंगे। कंपनी को ग्रामीण और अर्ध-शहरी बाजारों में डिजिटल रूप से सक्षम ऋण और संग्रह में वृद्धि की उम्मीद है। कंपनी ने पहले से ही एक डिजिटल रणनीति अपनाई थी और अब कंपनी डिजिटल तरीके से वित्तपोषण के साथ-साथ किश्तों के पुनर्भुगतान की सुविधा भी डिजीटल तरीके से स्वीकार करने के लिए सुसज्जित है।

इम्पेरमेंट प्रोविजनिंग को इंड एएस में निर्धारित एक्सपेक्टेड क्रेडिट लॉस (ईसीएल) पद्धति के अनुसार किया गया है, जिसमें तीन चरणों में प्रोविजनिंग की आवश्यकता होती है। 30 सितंबर, 2020 को सकल चरण 3 का स्तर 7.0 प्रतिशत था, जबकि पिछले वर्ष यह 7.9 प्रतिशत के स्तर पर था। नेट स्टेज 3 का स्तर 4.7 प्रतिशत रहा, जबकि पिछले वर्ष 6.4 प्रतिशत था। स्टेज 3 प्रोविजनिंग कवरेज अनुपात 30 सितंबर, 2020 तक 35.1 प्रतिशत था, जबकि पिछले साल इसी रिपोर्टिंग तारीख में 19.5 प्रतिशत था। कंपनी ने भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा जारी किए गए विवेकपूर्ण दिशानिर्देशों का अनुपालन किया है और त्वरित प्रावधान कर रही है।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, मैक्रोइकोनॉमिक आउटलुक में गिरावट को प्रतिबिंबित करने के लिए, एक प्रबंधन ओवरले के कारण कंपनी ने 433 करोड़ रुपये का अतिरिक्त प्रभार (30 सितंबर, 2020 को समाप्त होने वाला आधा वर्षः 910 करोड़ रुपये) माना है। सितंबर 30, 2020 तक, प्रबंधन ओवरले प्रावधानों की संचयी राशि 1,484 करोड़ रुपए थी।

कंपनी ने लागत को युक्तिपूर्ण बनाने के लिए विभिन्न उपायों की शुरुआत की है और भविष्य में इन्हीं उपायों से लाभ की उम्मीद है।

स्टैंडअलोन परिसंपत्ति प्रबंधन (एयूएम) 30 सितंबर, 2020 को 81,682 करोड़ रुपए था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि में यह 72,732 करोड़ रुपए था, तुलनात्मक रूप से 12 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

कंपनी 25.1 प्रतिशत का एक बहुत बेहतर पूंजी पर्याप्तता को कायम रखा है और उसके पास अपना व्यवसाय चलाने के लिए पर्याप्त पूंजी और वित्तीय संसाधन हैं।

कंपनी की पूंजी और ऋण की स्थिति मजबूत है और एएलएम स्थिति अच्छी तरह से संतुलित है।

सहायक कंपनियां

महिंद्रा इंश्योरेंस ब्रोकर्स लिमिटेड (एमआईबीएल)

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, एमआईबीएल ने पिछले वर्ष के 78.2 करोड़ रुपए की तुलना में 60.1 करोड़ रुपए की आय दर्ज की, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि से 23 फीसदी कम है। तिमाही के दौरान प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 5.0 करोड़ रुपए रहा, जो कि पिछले वर्ष 14.7 करोड़ रुपए था, पिछले वर्ष की समान अवधि से 66 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी) 3.7 करोड़ रुपए रहा, पिछले वर्ष यह 10.8 करोड़ रुपए था, 66 फीसदी की गिरावट।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान, एमआईबीएल ने पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 157.8 करोड़ की तुलना में 101.3 करोड़ की आय दर्ज की, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 36 प्रतिशत की गिरावट रही। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान प्राॅफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 7.7 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह 23.5 करोड़ रुपए था, पिछले वर्ष की इसी अवधि में 67 प्रतिशत की गिरावट। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त आधे वर्ष के दौरान लाभ के बाद कर (पीएटी) 5.6 करोड़ रुपए रहा, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 16.9 करोड़ था, 67 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई

संवाददाता (दिल्ली) 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान पिछले वर्ष की समान अवधि के 370.42 करोड़ रुपए की तुलना में 377.20 करोड़ रुपए की आय दर्ज की गई, पिछले वर्ष की तुलना में 2 फीसदी की वृद्धि। तिमाही के दौरान प्रॉफिट बिफोर टैक्स (पीएटी) 82.75 करोड़ रुपए रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में 61.07 करोड़ रुपए था, 36 फीसदी की बढ़ोतरी दर्ज हुई। तिमाही के दौरान प्रॉफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) 57.41 करोड़ रुपए दर्ज हुआ, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि में 28.77 करोड़ रुपए था, पिछली वर्ष की समान अवधि की तुलना में इसमें 100 फीसदी की वृद्धि दर्ज की गई।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान, एमआरएचएफएल ने पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 733.47 करोड़ की तुलना में 762.41 करोड़ रुपए की आय दर्ज की, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 4 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान लाभ से पहले कर (पीबीटी) 139.42 करोड़ रुपए था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह 102.13 करोड़ था, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 37 प्रतिशत की वृद्धि हुई। 30 सितंबर, 2010 को समाप्त छमाही के दौरान लाभ के बाद कर (पीएटी) 105.10 करोड़ रुपये था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान यह 57.52 करोड़ था, पिछले वर्ष की इसी अवधि में 83 प्रतिशत की वृद्धि हुई। कोविड – 19 महामारी के कारण उत्पन्न होने वाली आकस्मिकताओं को कवर करने के लिए 30 सितंबर, 2020 तक कंपनी का संचयी प्रबंधन ओवरले 190.39 करोड़ रुपए का है।

महिंद्रा मैनुलाइफ इनवेस्टमेंट मैनेजमेंट प्राइवेट लिमिटेड (एमएमआईएमपीएल)

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, एमएमआईएमपीएल ने पिछले वर्ष की समान अवधि में 4.31 करोड़ की तुलना में 7.36 करोड़ रुपए की कुल आय अर्जित की। कंपनी ने पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 8.84 करोड़ के नुकसान की तुलना में 4.31 करोड़ का नुकसान उठाया।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान, एमएमआईएमपीएल ने पिछले वर्ष की समान अवधि में 8.44 करोड़ रुपये की तुलना में 13.71 करोड़ रुपए की कुल आय अर्जित की। पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान कंपनी को 17.40 करोड़ के नुकसान की तुलना में 9.73 करोड़ का नुकसान हुआ। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त हुई तिमाही के लिए एमएमआईएमपीएल के प्रबंधन (एयूएम) के तहत औसत संपत्ति 14 योजनाओं में 5,036 करोड़ रुपए थी, जिसमें पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 3.5 प्रतिशत की गिरावट देखी गई। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही में कंपनी ने इन परिसंपत्तियों में से 1,888 करोड़ रुपये के औसत इक्विटी एसेट्स का प्रबंधन किया था, पिछले साल इसी अवधि में 1,521 करोड़ रुपए के एसेट्स मैनेज किए गए थे।

महिंद्रा मैनुलाइफ ट्रस्टी प्राइवेट लिमिटेड (एमएमटीपीएल)

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, एमएमटीपीएल ने पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 0.05 करोड़ रुपये की तुलना में 0.06 करोड़ रुपए की कुल आय अर्जित की। कंपनी को पिछले वर्ष की समान अवधि के नुकसान के बराबर 0.01 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान, एमएमटीपीएल ने 0.11 करोड़ की कुल आय अर्जित की, जो पिछले वर्ष के समान स्तर पर ही रही। कंपनी ने 0.07 करोड़ रुपये का नुकसान उठाया, पिछले वर्ष की इसी अवधि के दौरान 0.03 करोड़ रुपए का नुकसान था।

महिंद्रा फाइनेंस यूएसए, एलएलसी (एमएफयूएसए)

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान, एमएफयूएसए ने 15.93 मिलियन यूएस डालर की आय दर्ज की, पिछले वर्ष यह 17.50 मिलियन यूएस डॉलर थी, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 9 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई। तिमाही के दौरान प्रॉफिट बिफोर टैक्स 0.95 मिलियन यूएस डॉलर दर्ज किया गया था, पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना के 4.41 मिलियन यूएस डॉलर की तुलना में 78 फीसदी की गिरावट। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रोफिट ऑफ्टर टैक्स (पीएटी) 0.68 मिलियन डॉलर दर्ज किया गया था, जो कि पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना के 3.33 मिलियन यूएस डॉलर की तुलना में 80 फीसदी कम है।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त प्रथम छमाही के दौरान, एमएफयूएसए ने 32.35 मिलियन अमरीकी डालर की आय दर्ज की, पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान 35.02 मिलियन अमरीकी डालर के मुकाबले, 8 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। प्रथम छमाही के दौरान प्राॅफिट बिफोर टैक्स (पीबीटी) 6.68 मिलियन अमरीकी डाॅलर रहा, जबकि पिछले साल यह 9.34 मिलियन अमरीकी डाॅलर था, 28 प्रतिशत की गिरावट। कर के बाद लाभ (पीएटी) 7.06 मिलियन के मुकाबले 4.96 मिलियन अमरीकी डॉलर रहा, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 30 फीसदी कम था।

आइडियल फाइनेंस लिमिटेड (आईएफएल)

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान आईएफएल ने पिछले वर्ष इसी तिमाही के दौरान 234 मिलियन एलकेआर के मुकाबले 265 मिलियन एलकेआर की आय दर्ज की, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 13 फीसदी वृद्धि दर्ज की गई। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान लाभ से पहले का कर (पीबीटी) 73 मिलियन एलकेआर दर्ज किया गया, जबकि पिछले वर्ष की समान अवधि में यह राशि थी 42 मिलियन एलकेआर, 74 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त तिमाही के दौरान प्रॉफिट आफ्टर टैक्स (पीएटी), पिछले वर्ष की इसी तिमाही के दौरान एलकेआर 26 मिलियन के मुकाबले एलकेआर 50 मिलियन था, पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 92 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई।

30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान, आईएफएल ने पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान एलकेआर 454 मिलियन के मुकाबले एलकेआर 481 मिलियन की आय दर्ज की, जो पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में 6 प्रतिशत अधिक है। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान लाभ से पहले कर (पीबीटी) एलकेआर 110 मिलियन था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान एलकेआर 77 मिलियन था, 43 प्रतिशत की वृद्धि। 30 सितंबर, 2020 को समाप्त छमाही के दौरान लाभ के बाद कर (पीएटी) एलकेआर 75 मिलियन था, जबकि पिछले वर्ष इसी अवधि के दौरान एलकेआर 45 मिलियन था, 67 प्रतिशत की बढ़ोतरी।

ट्रेंडिंग न्यूज़:

यह भी देखे:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here