तीन तलाक पीड़िता पहुंची डी एम के दरबार

test

Publish Date: (IST)

मनोज पाल | मुज़फ्फरनगर
 मुजफ्फरनगर में एक और तीन तलाक का मामला सामने आया है जिसमें एक पीड़िता महिला ने पुलिस द्वारा कार्यवाही न किए जाने से परेशान होकर अपने परिजन व बच्चों को साथ लेकर जिलाधिकारी कार्यालय में पहुंचकर जिलाधिकारी से इंसाफ की गुहार लगाई इसके बाद जिलाधिकारी ने मामले की तहकीकात के लिए एक समाज सेविका तरन्नुम को मामले की जानकारी करने की जिम्मेदारी दी है जिला अधिकारी का कहना है कि दोनों पक्षों से बात करने के बाद जो भी मामला सामने आया उसी आधार पर कार्रवाई की जाएगी
दरअसल मामला थाना शाहपुर क्षेत्र का है जहां गांव बसी कला निवासी महिला आशिया उर्फ गुड़िया पत्नी शादाब पुत्र आफताब ने अपने परिजनों  और छोटे छोटे  बच्चों के साथ जिलाधिकारी कार्यालय पर पहुंचकर इंसाफ की गुहार लगाते हुए अपने ऊपर हुए जुर्म की पूरी दास्तान जिलाधिकारी राजीव शर्मा को सुनाई पीड़िता का आरोप है कि 9 साल पहले उसकी शादी थाना शाहपुर क्षेत्र के गांव बसी कला में शादाब पुत्र आफताब के साथ हुई थी और शादी के बाद से ही उसके ससुराल पक्ष उसके साथ मारपीट करता है मगर वह उनके जुल्मों को सहती रही उसके चार छोटे-छोटे बच्चे हैं अब उसके पति ने लगभग 5 दिन पहले उसे तीन तलाक देकर पीड़िता और उसके बच्चों को घर से निकाल दिया जिसके बाद पीड़ित शिकायत लेकर थाने गई तो उसकी थाने में भी नहीं सुनी गई उसके बाद पीड़िता पुलिस अधिकारियों के पास अपनी गुहार लेकर गई तो  वहां भी पीड़िता को इंसाफ नहीं मिला और थक हारकर पीडिता अपने परिजनों के बच्चों के साथ जिलाधिकारी कार्यालय पहुंच गई जहां उसने पूरी दास्तान जिलाधिकारी राजीव शर्मा को बताइए इसके बाद जिलाधिकारी ने मामले की छानबीन कर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया और एक समाज सेविका कुमारी तरन्नुम को दोनों पक्षों से बातचीत करने के बाद मामले की जानकारी देने को कहा।

POLL
For these reasons BJP looted in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh