*पांगन नदी में चल रहे है अवैध खनन प्रशासन को इस मामले की जानकारी होते हुए भी बनी रहती है अनजान*

रिपोर्टर

Publish Date: (IST)

यश पाठक के साथ शहर बानो की रिपोर्ट-: 

बभनी-:सर्वोच्य न्यायालय व उच्चतम न्यायालय द्वारा अवैध खनन व अवैध परिवहन पर रोक लगाने के बाद भी नदियों व नालों से बालु व बोल्डर का अवैध खनन धडल्ले से जारी है। 
अवैध खनन कर्ताओं के हौसले इतने बुलंद हैं कि वे बभनी रेन्ज के धनवार पांगन नदी के ,हरदेव घाट,व वैना बडकी पांगन नदी से व पांगन नदी के कई  स्थानो से बालु व बोल्डर का अवैध खनन  कर सरकार के आदेशो की धज्जिया उडा रहे है। व राजस्व को छति पहुचा रहे है।धनवार के समीप पांगन नदी के हरदेव घाट से व पांगन (सुखडी नदी )से रात दिन अवैध खनन कर नदियों का सीना खनन माफिया छलनी कर रहे हैं। विभाग के बभनी रेन्ज क्षेत्र के क्षेत्रिय अधिकारी इन नदियों से होकर आने जाने वाले सडक से अक्सर आते-जाते हैं। लेकिन अभी तक किसी ने इस अवैध खनन को रोकने की हिम्मत नहीं जुटाई।
 जबकि खननकर्ता क्षेत्र के रसूखदार लोग होने की वजह से इन पर सीधे हाथ नहीं डालता है।

*खनन कार्यकर्ताओं व प्राईवेट बन कर्मियों को रास्ते में ही बैठा दिया जाता है*

नदियों में अवैध खनन की जानकारी होती है। जब कोई उच्चअधिकारी नदियों में हो रहे खनन को रोकने के लिए जाता है तो, बीच राह में पहले से ही खनन कर्ताओं के आदमी व कुछ प्राईवेट वन कर्मी वाचर लोग बैठे रहते हैं, जो मोबाईल पर सूचना दे देते हैं।जब पुलिसबल व क्षेत्रिय अधिकारी मौके पर पहुंचते हैं तो उनके हाथ कुछ भी नहीं लगता है। नदी व नालों में रात दिन अवैध खनन होता है। रात भर धडल्ले से टैक्टर टालियो मे बालु लेकर परिवहन करते है। एवं स्टॉक भी वहीं गांव के आस पास दो- चार टाली जमा होता है। स्टाक किये गये बालु को रात मे टैक्टर मे भरकर बभनी मे सरकारी व गैर सरकारी निर्माण कार्यो मे उचे दांमो मे बेचते है। लेकिन अभी तक विभाग एक दो कार्रवाई के अलावा इन स्थानों पर जाकर कार्यवाही नहीं की।

बभनी रेन्ज क्षेत्र में इन दिनों खनन माफिया जोर शोरों से नदियों से बालु व बोल्डर का अवैध खनन कर रहे हैं। खनन माफिया ने पांगन नदी सहित क्षेत्र के छोटे बड़े नदी नालो से बालु का अवैध खनन कर के नदियों का सीना छलनी कर दिया है। 
 ट्रैक्टर ट्रॉलियों से बिना किसी के डर से दिन रात खनन कर बालु निकाल रहे हैं। खुलेआम रात दिन सबकी नजरों के सामने से भरे ट्रैक्टर ट्रॉली  कस्बे की सड़कों पर दौड़ते नजर आते हैं, फिर भी प्रशासन ने अपनी आंखें मूंद रखी है। इस संबंध में वन क्षेत्राधिकारी ए.एन.मिश्रा से बात की गई तो उनके द्वारा कहा गया कि अभी क्षेत्र में जा रहा हुं कि मामले की जांच कर जैसा होगा संबंधितों पर कार्रवाई की जाएगी

POLL
For these reasons BJP looted in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh