गायत्री महायज्ञ का आयोजन किया गया

test

Publish Date:05-03-2019 06:56:05pm (IST)

नियामतुल्लाह बस्ती

सिद्धार्थनगर बिस्कोहर  जिगना हबीरपुर स्थित मां दुर्गा  मंदिर पर हो रहे प्रज्ञा पुराण कथा एवं गायत्री महायज्ञ के दूसरे दिन शांति कुंज हरिद्वार से पधारी कथा व्यास कमला शर्मा ने कहा कि प्रज्ञा पुराण 19 वां पुराण है। इसे युग व्यास वेदमूर्ति, तपोनिष्ठ पं. श्रीराम शर्मा आचार्य ने लिखा है। इसमें वर्तमान समय की समस्त समस्याओं का समाधान है। प्रथम खंड में भगवान विष्णु एवं देवर्षि नारद के संवाद हैं। भगवान कहते हैं कि इस समय आस्था पर संकट है। मनुष्य ने मानवीय गरिमा को भुला दिया है। इसी वजह से विकृति चिंतन तथा भ्रष्ट आचरण आज की मूल समस्या है। इसी से व्यक्ति का स्वास्थ्य, मानसिक शांति, परिवार व्यवस्था व समाज का संतुलन गड़बड़ा गया है। कहा कि भगवान का 24वां अवतार प्रज्ञा की देवी गायत्री के रूप में हुआ है। हमें गायत्री मंत्र का जप प्रतिदिन करना चाहिए और इसकी शिक्षाआें को जीवन में अमल करना चाहिए। मंगलवार सुबह सात बजे से दस बजे तक पंच कुंडीय यज्ञ सम्पन्न कराया गया जिसमें क्षेत्र के सैकडों की संख्या मे श्रद्धालुंओ ने भाग लेकर विश्व कल्याण के लिए यज्ञ मे अपनी आहुति समर्पित की । इस मौके पर द्वारपाल चौरसिया , घनश्याम यादव , विंदा विश्वकर्मा , शेषराम गुप्ता , छब्बल मौर्या , पंडित विश्मभर पाण्डेय , गोपाल शरण चौधरी , शिव पूजन वर्मा आदि मौजूद रहें ।

POLL
For these reasons BJP looted in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh