होली का त्योहार करीब आते ही सिंथेटिक दूध से निर्मित मिठाइयों से पटा बाजार।

test

Publish Date:14-03-2019 06:21:48pm (IST)

मिलावट खोर सक्रिय खोवा पनीर अन्य खाद्यपदार्थ कालाबाजारी की चपेट में। खेतासराय(जौनपुर) 14 मार्च:- सामने त्योहार की वजह से खाद्य पदार्थो की मांग बढ़ जाती है जिसका फायदा उठाते हुए दुकान निर्भीक होकर धड़ल्ले से मिलावट खोरी का गोरखधंधा शुरू कर दिए है। यह कोई नई बात नहीं है परन्तु मिलावट खोर दुकानदार त्योहार करीब का फायदा जमकर उठाने में लगे है। जिसकी मुख्य वजह खाद्य रसद और स्वास्थ्य विभाग की उदासीनता हो सकती है। इसी उदासीनता या फिर कठोर कार्यवाही न होने पर कस्बे में मिलावटी पदार्थों पर अंकुश नहीं लग पा रहा। क्षेत्र के आस-पास के छोटी-बड़ी बाजार भी इससे अछूते नही है बात कस्बे की करे तो यहाँ खुलेआम विभिन्न पदार्थों में मिलावट की जा रही है। इससे लोगों के स्वास्थ्य साथ खिलवाड़ किया जा रहा है। लेकिन मिलावटखोरों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा रही। कस्बा के प्रबुद्धजनों ने जिम्मेदारों से इसके खिलाफ कठोर कार्यवाही की मांग किया है। आज जनसाधारण के बीच एक आम धारणा बनती जा रही है कि बाजार में मिलने वाली हर चीज मिलावटी है। आज मिलावट का सबसे ज्यादा कुप्रभाव हमारी रोजमर्रा की प्रयोग होने वाली जरूरत की चीजों पर ही पड़ रहा है। मानो ऐसा हो चला है जैसे पूरे देश में मिलावटी खाद्य-पदार्थों की भरमार हो गई है। इसी मिलावट खोरी के धन्धे के मामले में स्थानीय कस्बा भी पीछे नही है। जिम्मेदारों द्वारा कार्यवाही न करने से इस गोरखधंधा करने वालो के हौसला बुलन्द है। निःसंकोच आम जन लोगो के स्वास्थ्य के साथ मज़ाक करने में डटे हुए है। इस तरह एक आम नागरिक आखिर जाए तो जाए कहां वह खुद को मिलावट के एक ऐसे मकड़जाल में घिरा हुआ पाता है जिससे बचना शायद उसे असंभव सा लगने लगा गया है। यदि आंकडों पर गौर फरमाएं तो एक अनुमान के अनुसार बाजार में मिलने वाले लगभग 35 से 40 प्रतिशत समान में मिलावट होती है। खाद्य पदार्थों में होने वाली मिलावट की वस्तुओं पर निगाह डालने पर पता चलता है कि मिलावटी सामान का उत्पादन करने वाले इतनी चालाकी से इस काम को अंजाम देते हैं कि कोई आसानी से इन वस्तुओं को पहचान नहीं सकता। त्योहार करीब होने से बाज़ारो में इन दिनों दूध, खोवा, पनीर, तेल, मैदा, बेसन सहित तमाम आवश्यक खाद्य-पदार्थो की डिमांड ज्यादा बढ़ी हुई है। इसके साथ ही साथ बनावटी व गोरखधंधा का खेल भी बढ़ा हुआ है। जिसका खामियाजा आम लोगो भुगतना पड़ सकता है। खाद्य सुरक्षा विभाग की लापरवाही व निष्क्रियता के चलते मिलावट खोर मनमानी करने पर उतर आये है। और उपभोक्ताओं को चूना लगा रहे है।।। इस सम्बन्द मे चिकित्सा प्रभारी स्वास्थ्य केंद्र सोंधी डॉ0 रमेश चंद्रा ने बताया अशुद्ध खाद्य पदार्थ खाने से फूट पॉयसनिंग होती है जॉन्डिस का भी भय रहता है गैस टाइटिस सहित अन्य संक्रामक रोग का खतरा रहता है।

POLL
For these reasons BJP looted in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh