बीजीआर कम्पनी बकाया राशि की भुगतान जल्द नहीं करेगी तो उग्र आन्दोल किया जाएगा : ट्रांसपोर्टर

Bureau Chief

Publish Date: (IST)

विनोद कुमार दास, पाकुड़

पाकुड़। जिले के अमडापाड़ा प्रखंड मुख्यालय स्थित डाकबंगला परिसर में बुधवार को कोयला ढुलाई से जुड़े ट्रांसपोर्टर और वाहन मालिकों की एक आवश्यक बैठक हुई। बैठक में मुख्य रूप से बकाया भुगतान पर चर्चा की गई। बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया की बीजीआर को लिखित रूप में एक मांग पत्र देकर यथा शीघ्र बकाया भुगतान अविलंब करने की मांग की जायेगी। अगर बीजीआर द्वारा बकाया भुगतान की मांग को गंभीरता से नही लिया गया तो एक सप्ताह के अंदर उग्र आंदोलन कम्पनी के खिलाफ किया जायेगा। बैठक का संचालन अमित कुमार ने किया। बैठक में सर्वसम्मति से 7 प्रस्ताव लिया गया। बैठक में सर्वसम्मति से प्रथम निर्णय लिया गया कि ट्रांसपोर्ट वाहन मालिक एकता संघ का एक संगठन बनाया बनाया जाय। दूसरी संगठन के बैनर तले कोई भी निर्णय जिले की गाड़ी मालिक ट्रांसपोर्ट के हित में लिया जाएगा। बीजीआर कंपनी के द्वारा ट्रांसपोर्टर एवं वाहन मालिक को किसी भी बैठक में संगठन को प्राथमिक रूप से सूचना देनी होगी। बैठक में कहा कि बीजीआर कंपनी के द्वारा कोयले की ट्रांसपोर्टिंग के लिए पाकुड़ जिले के वाहन मालिक एवं ट्रांसपोर्टरों को ही लिया जाए। इसके तहत पाकुड़ जिला के बाहर के किसी वाहन एवं ट्रांसपोर्टर को नहीं चलने दिया जाएगा। सर्वसम्मति से यह भी निर्णय लिया गया कि उक्त संगठन में पाकुड़ जिला के सभी वाहन मालिक को ज्यादा से ज्यादा जोड़ा जाए। संगठन को चलाने के लिए एक 13 सदस्य संचालित कमेटी का गठन किया गया। यह भी निर्णय लिया गया कि ट्रांसपोर्टर एवं छोटी बड़ी बहनों मालिक एवं सिविल वर्क से कराया गए कार्य से संबंधित बकाया भुगतान के संबंध में पूर्व में डब्ल्यूबीपीडीसीएल के द्वारा समाचार पत्र के माध्यम से प्रसारित किया गया था कि जिला प्रशासन के पास विपत्र जमा करने का आदेश दिया गया था। तत्पश्चात बकायेदारों द्वारा जिला प्रशासन को जमा कर दिया गया। लेकिन अभी तक जिला प्रशासन के द्वारा हम बकायेदारों को किसी भी प्रकार की सूचना नहीं मिल रही है। अब डब्ल्यूबीपीडीसीएल के डायरेक्टर अमलेश कुमार के द्वारा मौखिक रूप से हमें बकाए राशि को भुगतान के लिए एफआईआर दर्ज करने को कहा जा रहा है जो हमलोग नहीं करने वाले हैं। बीजीआर कम्पनी की मनमानी चलने।नहीं दिया जाएगा। बीजीआर कम्पनी अमड़ापाड़ा प्रखंड को साउथ इंडियन बनाना चाहती है। जो यहां के लोग होने नहीं दिया जाएगा। बीजीआर कम्पनी बाहर के लगभग दो सौ 50 वर्करों को लाकर काम कर रही है। कम्पनी यहां की भोली भाली विस्थापितों एवं ग्रामीणों को धोखा देने का काम कर रही हैं। मौके पर अमित कुमार, शंकर भगत, सुधीर चंद्र साहा, प्रवीण कुमार सिंह, संतोष कुमार रजक, नीरज कुमार, उमानाथ प्रसाद, विनोद कुमार भगत, सुमन कुमार, विकास कुमार, उमेश कुमार, कुंदन कुमार, जावेद आलम, मोहम्मद शकील, तनवीर अली, संतोष कुमार भगत, ललन भगत, संतोष भगत सहित दर्जनों ट्रांसपोर्टर एवं वाहन मालिक व प्रभावित ग्रामीण मौजूद थे।

POLL
For these reasons BJP looted in Rajasthan, Madhya Pradesh and Chhattisgarh