लाइव ब्रेकिंग न्यूज़: 

Bhopal Pollution News- महा- टीकाकरण अभियान कचरा निष्पादन पर निगरानी रखेगा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड   |  Bhopal Pollution News- महा- टीकाकरण अभियान कचरा निष्पादन पर निगरानी रखेगा प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड   |  Bhopal News- वैक्सीनेशन करायें, स्वयं और परिवार को कोरोना से बचायें- मंत्री डंग   |  Bhopal News- वैक्सीनेशन करायें, स्वयं और परिवार को कोरोना से बचायें- मंत्री डंग   |  deoria corona news today in hindi शनिवार व रविवार को साप्ताहिक बंदी के साथ कोरोना कर्फ्यू रहेगा लागू   |  deoria corona news today in hindi शनिवार व रविवार को साप्ताहिक बंदी के साथ कोरोना कर्फ्यू रहेगा लागू   |  विरार कारशेड में रक्तदान शिविर का आयोजन   |  विरार कारशेड में रक्तदान शिविर का आयोजन   |  Manasa News : ग्राम नलवा में बाबा रामदेव की मूर्ति स्थापना के अवसर पर 11 कुंडी यज्ञ की हुई पूर्णाहुति   |  Manasa News : ग्राम नलवा में बाबा रामदेव की मूर्ति स्थापना के अवसर पर 11 कुंडी यज्ञ की हुई पूर्णाहुति
Monday, June 21, 2021

राज्य चुने

HomeStateकोविड के कारण पूरी दिल्ली बेहाल है और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कर...

कोविड के कारण पूरी दिल्ली बेहाल है और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कर रहे है खोखली घोषणाऐं- दिल्ली कांग्रेस

Category:

लेटेस्ट न्यूज़:

विज्ञापन

कोविड के कारण पूरी दिल्ली बेहाल है और मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कर रहे है खोखली घोषणाऐं- दिल्ली कांग्रेस

नई दिल्ली (संवाददाता) – दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रदेश कार्यालय राजीव में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए पूर्व केन्द्रीय मंत्री श्रीमती कृष्णा तीरथ ने कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल कोविड महामारी में दिन प्रतिदिन नई-नई खोखली घोषणाऐं करके राजनीतिक खेल खेल रहे है जबकि कोविड के कारण पूरी दिल्ली बेहाल है। श्रीमती तीरथ ने कहा कि केजरीवाल सरकार ने लॉकडाउन के कारण आर्थिक संकट से जूझ रहे दिल्लीवासियों के हित में अभी तक कोई कारगर योजना नही बनाई है।

श्रीमती कृष्णा तीरथ ने कहा कि पूरी दिल्ली में लॉकडाउन लगाने से बेहतर होगा कि जहां केस ज्यादा है वहां अधिक से अधिक कंटेनमेंट जोन बनाए जाए ताकि कोविड संक्रमण को बढ़ने से रोका जा सके तथा दिल्ली में व्यवसायिक और आर्थिक गतिविधियां सामान्य रुप से चल सकें। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन से जहां एक ओर श्रमिक आर्थिक संकट के कारण दिल्ली छोड़ रहे है, वहीं व्यापारी वर्ग, छोटे-बड़े उघोग, दुकानदार के मालिक और इनमें कर्मचारियों की अजीविका भी प्रभावित हो रही है। उन्होंने कहा कि लॉकडाउन लगाने से बेहतर है अनलॉक प्रक्रिया में कंटेन्मेंट जोन के आधार पर बाजारों का संचालन हो ताकि किसी भी व्यापारी अथवा मजदूर की अजीविका प्रभावित न हो।

- Advertisement -

श्रीमती कृष्णा तीरथ ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल द्वारा 31 मई से अनलॉक प्रक्रिया में इंडस्ट्रियल एरिया में चार दीवारी में मेन्युफक्चरिंग और प्रोडक्शन यूनिट चलाने की इजाजत के साथ मजदूरां के लिए कंस्ट्रक्शन साईट पर निर्माण कार्य करने की इजाजत तो दी गई है। परंतु क्या वह बता सकते है कि लॉकडाउन के पूरे कार्यकाल में एक दिन भी सेन्ट्रल विस्ता प्रोजेक्ट का निर्माण कार्य रुका है, यदि नही तो क्यो? श्रीमती कृष्णा तीरथ ने केजरीवाल सरकार से मांग की कि दुकानदारां व मजदूरां को आर्थिक पैकेज दिया जाए दिल्लीवासियों तथा आर्थिक सहायता के रुप में 10 हजार रुपये प्रतिमाह उनके खाते में डाले जाऐं। उन्होंने कहा कि यह आश्चर्यजनक है कि दिल्ली सरकार निर्माण और औद्योगिक गतिविधियों को फिर से शुरू करने की अनुमति देने की योजना बना रही है, परंतु क्या निर्माण और औद्योगिक गतिविधियों में लगे श्रमिकों को वायरस के प्रकोप से बचाने के लिए टीककारण की कोई योजना बनाई है। उन्हांने सवाल उठाते हुए कहा कि कैसे कच्चे माल की दुकानें बंद रहने पर औद्योगिक गतिविधियां निर्माण कार्य कैसे करेंगे?

श्रीमती कृष्णा तीरथा ने कहा कि कोविड-19 के संकट से जूझ रही दिल्ली केजरीवाल की नाकामियों और महामारी पर नियंत्रण नही करने की वजह से पहले ही आहत है। वर्तमान में कोविड के साथ-साथ ब्लैक फंगस के केस भी लगातार दिल्ली में बढ़ रहे है, जिस पर नियंत्रण पाने के लिए केजरीवाल सरकार ने कोई नीति तथा योजना नही बनाई है, केवल महामारी की घोषणा करके सब कुछ भगवान भरोसे छोड़ा हुआ है। उन्होंने कहा कि दिल्ली में ब्लैक फंगस के 773 केस है जबकि कल एक दिन में 153 केस सामने आए। मतलब ब्लैक फंगस धीरे-धीरे कोविड की तरह अपने पैर पसार रहा है और केजरीवाल कोविड वैक्सीन की कमी की भांति ब्लैक फंगस की दवाई की कमी की दुहाई देकर अपना पल्ला झाड़ना चाहते है।
श्रीमती कृष्णा तीरथ ने कहा कि ब्लैक फंगस के मरीजों का न उचित इलाज हो रहा है और न ही अस्पतालों में म्यूकोमाईकोसिस दवाई उपलब्ध नही है, जबकि एक मरीज को नियंत्रण में लाने के लिए तीन इंजेक्शन देना जरुरी है। उन्होंने कहा कि सरकार अपनी कमियों को छुपाने के लिए बेबुनियाद आदेश दे रही है, जबकि दिल्ली की जनता को दिल्ली सरकार की ब्लैक फंगस के नियंत्रण की वास्तविक स्थिति जानने का पूरा अधिकार है।

ट्रेंडिंग न्यूज़:

यह भी देखे:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here