राज्य चुने

HomeStateMaharashtraCorporator Election in Mumbai 2021 इस बार बीएमसी चुनाव आसान नहीं है...

Corporator Election in Mumbai 2021 इस बार बीएमसी चुनाव आसान नहीं है शिवसेना की राह!

लेटेस्ट न्यूज़:

विज्ञापन

अंजली माली | महाराष्ट्र मुंबई 

Corporator Election in Mumbai 2021 मुंबई में अगले 6 महीने में होने वाले महानगर पालिका चुनाव के लिए सभी पार्टियों ने अपनी कमर कस ली है। बीएमसी पर कब्जा जमाने के लिए पार्टियों ने अभी से तैयारियां शरू कर दी हैं। पिछले 25 सालों से बीएमसी पर शिवसेना का ही कब्जा है। इस बार का चुनाव शिवसेना का लिए आसान नहीं होगा। 2017 में पिछले बीएमसी चुनाव में बीजेपी और शिवसेना ने अपनी रास्ते अलग कर लिए थे। उस दौरान बीजेपी ने अकेले ही 82 सीटों पर जीत हासिल की थी। वही शिवसेना को सिर्फ 2 सीटें ज्यादा मिली थीं। मतलब शिवसेना ने 84 सीटों पर जीत हासिल की थी। इस बार तो महाराष्ट्र में महाविकास अघाड़ी की सरकार है।शिवसेना के साथ गठबंधन होने के बाद भी कांग्रेस ने अकेले ही बीएमसी चुनाव लड़ने का ऐलान किया है।
- Advertisement -

कांग्रेस ने इसके लिए तैयारियां भी शुरू कर दी हैं। मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष भाई जगताप तैयारियों में अभी से जुट गए हैं। वहीं बीजेपी ने बड़ा दांव खेलते हुए साउथ इंडिया के नेता कृपाशंकर सिंह को पार्टी में शामिल कर लिया है। कृपाशंकर के बीजेपी में आने के बाद से ही माना जा रहा है कि नॉर्थ का वोट भी बीजेपी के पाले में आ सकता है। इससे शिवसेना को नुकसान उठाना पड़ सकता है। वहीं मोदी की नई कैबिनेट में नारायण राणे को मंत्री बना दिया गया है। जिसके बाद महाराष्ट्र के कोकण जिले के वोट भी बीजेपी के पाले में आ सकते है।

इसका फायदा बीजेपी को बीएमसी चुनाव में मिलने की पूरी उम्मीद जताई जा रहे हैं। आंकड़ों के मुताबिक मुंबई में कुल 96.39 लाख मतदाता हैं। जिसमें 16 लाख वोटर्स उत्तर भारतीय हैं। इन वोटर्स की बीएमसी की 227 सीटो में से 50 सीटों पर सीधा प्रभाव है। एक तरफ शिवसेना तो दूसरी तरफ बीजेपी इन वोटों को अपने पाले में लाने की कोशिश करेगी। कृपा शंकर तो पहले ही कह चुके हैं कि नॉर्थ इंडियन वोट वह बीजेपी के पाले में करने की पूरी कोशिश करेंगे। वहीं कांग्रेस का मानना है कि भले ही उत्तर भारतीय वोट पिछले चुनाव में पार्टी से दूर हो गाय हो लेकिन सबसे ज्यादा सम्मान उन्हें कांग्रेस ने दिया है इसीलिए वह कांग्रेस को ही अपना वोट देंगे।

शिवसेना भी इन वोटर्स को लुभाने की जुगत में लग गई है। शिवसेना के प्रवक्ता आनंद दुबे का कहना है कि शिवसेना ने कई उत्तर भारतीय लोगों को बड़े पदों पर बिठाया है। संजय निरुपम से लेकर प्रियंका चतुर्वेदी तक को शिवसेना ने राज्यसभा भेजा। शिवसेना ने हमेशा ही नॉर्थ इंडियन्स का सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि शिवसेना हमेशा ही लोगों की सेवा के लिए तैयार रहती है। परंतु पिछले चुनाव में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन से शिवसेना के लिए डर बना हुआ है।।

ट्रेंडिंग न्यूज़:

हमारे साथ जुड़े:

500FansLike
0FollowersFollow
500SubscribersSubscribe

यह भी देखे:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here