लाइव ब्रेकिंग न्यूज़: 

Neemuch news  ग्राम पंचायत दारू में टीकाकरण को लेकर युवाओं में दिखा उत्साह 110 लोगो ने लगवाया टीका   |  Neemuch news  ग्राम पंचायत दारू में टीकाकरण को लेकर युवाओं में दिखा उत्साह 110 लोगो ने लगवाया टीका   |  पुलिस ने दो शातिर चोरों को चोरी के सामान के साथ किया गिरफ्तार   |  पुलिस ने दो शातिर चोरों को चोरी के सामान के साथ किया गिरफ्तार   |  के.एल. डीम्ड यूनिवर्सिटी के उद्यमी छात्रों ने वायरलेस चार्जिंग वाली अपनी तरह की पहली ई-बाइक तैयार की   |  बुक माय शो ने सामुदायिक टीकाकरण अभियान के पहले चरण के तहत भारत में 1,45,000 लोगों तक पहुंचाई वैक्सीन   |  महिला ऐच्छिक ब्यूरो द्वारा 1 जोड़े को मिलाया गया   |  महिला ऐच्छिक ब्यूरो द्वारा 1 जोड़े को मिलाया गया   |  अभियोग अज्ञात अभियुक्त के विरूद्ध पंजीकृत कर विवेचना की जा रही है   |  अभियोग अज्ञात अभियुक्त के विरूद्ध पंजीकृत कर विवेचना की जा रही है
Thursday, June 24, 2021
HomeStateमहिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु नये संचार तकनीकी का इस्तेमाल

महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु नये संचार तकनीकी का इस्तेमाल

Category:

लेटेस्ट न्यूज़:

विज्ञापन

महिला यात्रियों की सुरक्षा हेतु नये संचार तकनीकी का इस्तेमाल

गणेश पाण्डेंय । मुंबई

रेलवे मे यात्रा कर रही महिलाओं के लिए मध्य रेल मुबंई मंडल स्मार्ट सहेली महिला यात्रियों के लिए सुरक्षित यात्रा सुनिश्चित करने के लिए एक सहभागी योजना के रूप में  दिनांक 22.12.2020 को स्मार्ट सहेली शुरू की गई है। इस योजना के तहत, उनकी शिकायतों पर तत्काल ध्यान देने और आपात स्थिति से निपटने के लिए 85 व्हाट्सएप ग्रुप बनाए गए हैं। इन व्हाट्सएप ग्रुपों में आरपीएफ मेंटर महिला आरपीएफ स्टाफ महिला यात्रियों की अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित कर रहे हैं।

- Advertisement -

महिला यात्रियों की बेहतर सुरक्षा और संरक्षा और उनकी शिकायतों के निवारण, यात्रियों की अधिकतम भागीदारी सुनिश्चित करने के लिए सेक्टर सहेली, स्टेशन सहेली और ट्रेन सहेली समूहों को नियमित रूप से प्रोत्साहित और प्रेरित किया गया है।

मेरी सहेली

सीएसएमटी और एलटीटी स्टेशनों पर लेडी आरपीएफ स्टाफ एक महिला सब इंस्पेक्टर और 2 या 3 महिला कांस्टेबल की दो टीमें बनाई गई हैं, जो नामांकित लंबी दूरी की ट्रेनों में ड्यूटी करती हैं यानी 02809 (मुंबई-हावड़ा स्पेशल वाया नागपुर), 02189 (मुंबई-नागपुर स्पेशल) ) और 06345 (एलटीटी-एर्नाकुलम स्पेशल), 01071 (एलटीटी-वाराणसी स्पेशल) क्रमशः ये टीमें ट्रेन के प्रस्थान से पहले महिला डिब्बों सहित सभी यात्री डिब्बों में प्रवेश करती हैं और यात्रा करने वाली महिला यात्रियों की पहचान करती हैं और यात्रा के दौरान बरती जाने वाली सभी सावधानियों के बारे में जानकारी देती हैं और कोच में किसी भी समस्या का सामना करने या देखने पर 139 डायल करती हैं। इन यात्रियों को सुरक्षा नियंत्रण कक्षों के लैंडलाइन मोबाइल नंबर भी प्रदान किए गए हैं।

- Advertisement -

Use of new communication technology for the safety of women passengers

ट्रेनों और प्लेटफॉर्म पर सुरक्षा
प्लेटफॉर्म बंदोबस्त,सर्कुलेटिंग एरिया और मुंबई मंडल पर एक्सेस कंट्रोल के लिए महिला आरपीएफ कर्मियों की दो टीमों को स्टेशनों पर तैनात किया गया है। प्रत्येक टीम में एक महिला सब इंस्पेक्टर और 8 महिला कांस्टेबल शामिल हैं। 21.00 बजे से 06.00 बजे के बीच महिला यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जीआरपी होमगार्ड कर्मियों द्वारा पूरी रात चलने वाली उपनगरीय ट्रेन सेवाओं का एस्कॉर्ट किया जाता है।

यात्रियों महिला यात्रियों सहित के खिलाफ अपराध की रोकथाम और उनके संबंधित और सुरक्षा के लिए प्रत्येक ट्रेन में आरपीएफ के दो सशस्त्र कर्मियों द्वारा मुंबई मंडल में प्रतिदिन लगभग 110 उपनगरीय सेवाओं को एस्कॉर्ट किया जा रहा है।
यह सुनिश्चित किया जाता है कि स्टेशन पर तैनात महिला आरपीएफ कर्मी महिला यात्रियों की बेहतर संरक्षा और सुरक्षा के लिए स्टेशन पर आने वाली ट्रेनों के महिला डिब्बों में उपस्थित हों और उनकी शिकायत के लिए तत्काल कार्यवाई करें।

यह भी सुनिश्चित किया जाता है कि कोई भी अनधिकृत व्यक्ति या पुरुष महिला कोच में प्रवेश न करे। ऐसे व्यक्तियों के खिलाफ मुंबई मंडल में नियमित अभियान चलाया जाता है। 2021 में (31 मई तक) महिला डिब्बों में यात्रा करने वाले पुरुष यात्रियों के खिलाफ रेलवे अधिनियम के तहत कुल 191 मामले दर्ज किए गए और उनसे 43,700 / – रुपये जुर्माना के रूप में वसूल किये गये।

वीडियो निगरानी प्रणाली (वीएसएस) की स्थापना
मुंबई मंडल के सभी रेलवे स्टेशनों के संवेदनशील स्थानों पर कुल 3140 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सीसीटीवी स्थानों में उपनगरीय ट्रेनों के सभी महिला डिब्बों और स्टेशनों पर मेल / एक्सप्रेस ट्रेनों की  सुरक्षा के लिए कवर किया गया है।

महिला सुरक्षा को मजबूत करने के लिए 10 उपनगरीय रेकों के महिला डिब्बों में 200 सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं। सभी रेकों के महिला डिब्बों में सीसीटीवी कैमरे लगाने का प्रस्ताव प्रक्रियाधीन है।

एफआरएस ऐप – एफआरएस (फेस रिकग्निशन कैमरा) ऐप जीआरपी द्वारा विकसित किया जा रहा है जो चेहरे की पहचान से अपराधियों और उनके पिछले रिकॉर्ड का पता लगा सकता है। महिला सुरक्षा सहित यात्रियों की सुरक्षा के लिए सुरक्षा एवं अन्य सुरक्षा उपायों के लिए जीआरपी के साथ उच्च स्तरीय समन्वय सुनिश्चित किया जा रहा है। इसे पोस्ट लेवल पर भी सुनिश्चित किया जा रहा है।

फ्रंटलाइन सुरक्षा कर्मचारियों द्वारा अपनाई गई पहल

क्षेत्र में कार्यरत सभी आरपीएफ कर्मचारियों को महिलाओं के खिलाफ अपराधों से संबंधित कानूनों के बारे में बुनियादी जानकारी वाली पुस्तिकाएं वितरित की गई हैं। यह पुस्तिका आरपीएफ कर्मचारियों को उन महिला यात्रियों से निपटने के लिए भी संवेदनशील बनाती है जो उनसे मदद के लिए संपर्क करती हैं। यह एनजीओ अक्षरा के सहयोग से किया गया है।

महिला यात्रियों की बेहतर सुरक्षा और संरक्षा सुनिश्चित करने के लिए उपनगरीय स्टेशनों पर सीपीडीएस (अपराध रोकथाम और जांच दल) की टीमों को तैनात किया गया है।

मुंबई मंडल के सभी प्रमुख स्टेशनों पर पोस्टर, पैम्फलेट, हैंडबिल और घोषणाओं के माध्यम से महिला सुरक्षा के लिए नियमित जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं।
संचार की सरल प्रणाली
रेलवे हेल्पलाइन नंबर 139 चौबीसों घंटे उपलब्ध है जीआरपी रेलवे हेल्पलाइन नंबर 1512 चौबीसों घंटे उपलब्ध है।

ट्रेंडिंग न्यूज़:

यह भी देखे:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here