राज्य चुने

HomeStateMumbaiमहाराष्ट्र में क्या फिर बीजेपी से हाथ मिलायेगी शिवसेना ?

महाराष्ट्र में क्या फिर बीजेपी से हाथ मिलायेगी शिवसेना ?

लेटेस्ट न्यूज़:

विज्ञापन

महाराष्ट्र में क्या फिर बीजेपी से हाथ मिलायेगी शिवसेना ?
प्रताप सरनायक के पत्र का जवाब शिवसेना ने सामना मुख्यपत्र में दिया :

- Advertisement -

अंजली माली
महाराष्ट्र मुंबई : सरनायक का ये बयान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्धव ठाकरे के बीच मुलाकात के बाद आया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने दिल्ली दौरे के समय प्रधानमंत्री के आधिकारिक आवास पर उनसे व्यक्तिगत मुलाकात की थी। हिंदुस्तान टाइम्स ने शिवसेना के एक नेता के हवाले से लिखा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उद्धव ठाकरे के बीच करीब आधे घंटे तक बैठक चली। इस बैठक में उद्धव ठाकरे ने पीएम के साथ राजनीतिक विषयों पर बात की। इसके अलावा ठाकरे ने विधान परिषद के लिए 12 सदस्यों के नामांकन के मुद्दे पर भी पीएम से हस्तक्षेप करने की मांग की। इस मामले पर पिछले 8 महीनों से राज्यपाल बीएस कोश्यारी की मंजूरी का इंतजार है।
दूसरी ओर पीएम मोदी से मुलाकात के बाद उद्धव ठाकरे ने कहा था कि हां, हमारी अलग से मुलाकात हुई हम राजनीतिक रूप से साथ नहीं हैं, लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि हमने अपने संबंधों को खत्म कर दिया है। मैं नवाज शरीफ से मिलने नहीं गया था। नरेंद्र मोदी से व्यक्तिगत रूप से मिलने में कोई बुराई नहीं है। कल मैं अपने सहयोगियों से कहूंगा कि वे जाएं और पीएम से मिलकर आएं। उद्धव ठाकरे की मुलाकात के बाद उठते सवालों पर शिवसेना ने मुखपत्र सामना में कहा पहले तो पीएम मोदी से मुलाकात करने में कोई दोष नहीं है।प्रधानमंत्री के साथ महाराष्ट्र सरकार के अच्छे रिश्ते हैं इसमें कुछ गलत नहीं हैं वह हमारे संसदीय लोकतंत्र के सुप्रीम लीडर हैं।

BJP Shivsena
बीजेपी से हाथ मिलाने से जुड़े अपने विधायक प्रताप सरनायक के पत्र को ज्यादा भाव ना देते हुए शिवसेना ने अपने मुखपत्र सामना में लिखा है कि, जिन लोगों को महाराष्ट्र की सत्ता संरचना में परिवर्तन के संकेत दिखाई दे रहे हैं, वे राजनीति में कच्चा नींबू हैं। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को लिखे गए पत्र में प्रताप सरनायक ने कहा था कि इससे पहले कि बहुत ज्यादा देर हो जाए मुंबई और थाणे जैसे आगामी निगम चुनावों को देखते हुए शिवसेना को अपने पूर्व सहयोगी के साथ हाथ मिला लेना चाहिए।
थाणे के ओवाला-माजीवाड़ी विधानसभा क्षेत्र से विधायक सरनायक ने अपने पत्र में कहा था कि बीजेपी और शिवसेना अब सहयोगी नहीं हैं लेकिन दोनों पार्टियों के नेताओं के बीच अच्छे संबंध हैं और हमें इसका प्रयोग अपने हित में करना चाहिए।

ट्रेंडिंग न्यूज़:

हमारे साथ जुड़े:

500FansLike
0FollowersFollow
500SubscribersSubscribe

यह भी देखे:

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here